rashi sharma
rashi sharma 16 Jul, 2022 | 0 mins read

यूँ ही ..................

ज़रूरी नही की हर काम मे मतलब तालाशा जाए, क्यों ना कभी कुछ ऐसा करें की, बेमतलब को भी मतलब मिल जाए.

Reactions 0
Comments 0
205
rashi sharma
rashi sharma 15 Jul, 2022 | 1 min read

किस्मत साथ किस्मत के...............

ज़्यादा कुछ नहीं कुछ करना चाहती हूँ, खुद के लिए खुद की पहचान बनाना चाहती हूँ, ऐ किस्मत इसके लिए तुम्हारा साथ चाहती हूँ.

Reactions 0
Comments 0
244
rashi sharma
rashi sharma 15 Jul, 2022 | 1 min read

Books Lover............

With books we live with lots of emotions.

Reactions 0
Comments 0
219
rashi sharma
rashi sharma 14 Jul, 2022 | 0 mins read

कैलाश रमण............

वो अलबेला वो एकलौता हैं, मतवाला हैं वो, अपनी मर्ज़ी का मालिक सही, भक्तों की सुनने वाला है वो.

Reactions 0
Comments 0
221
rashi sharma
rashi sharma 14 Jul, 2022 | 1 min read

निडर, निर्भय, नम्र हूँ मैं............

मेरी शर्मों हया को मेरी कमज़ोरी ना समझो, ये तो मेरा श्र्रंगार हैं, खुद को लिए काफी हूँ मैं, मुझे नहीं औरों को मेरी तलाश हैं.

Reactions 0
Comments 0
230
rashi sharma
rashi sharma 12 Jul, 2022 | 1 min read

बेसब्र ............

बेसब्र इंसान, बेसब्र हम और आप

Reactions 0
Comments 0
253
rashi sharma
rashi sharma 11 Jul, 2022 | 1 min read

खाली समय और हम...........

खुद के साथ वक्त बिताया क्या ?

Reactions 0
Comments 0
196
rashi sharma
rashi sharma 11 Jul, 2022 | 0 mins read

पथ........

मंज़िल का सफर मेरी नज़र से.

Reactions 0
Comments 0
214
rashi sharma
rashi sharma 10 Jul, 2022 | 0 mins read

उससे मुझे क्या मिला.....

This poetry shows how the invisible power help us in our problems, tensions and also increase our happiness with their blessings.

Reactions 0
Comments 0
176