Kumar Sandeep

Kumar_Sandeep

https://paperwiff.com/Kumar_Sandeep

जन्म-15 अगस्त 2000 माता-पिता- श्रीमती रीणा देवी- स्व● ब्रज किशोर मिश्र जन्म स्थान- सिमरा, मुजफ्फरपुर(बिहार) शिक्षा- स्नातक उत्तीर्ण(वाणिज्य संकाय) लेखन विधा- कविता, लघुकथा, कोट्स, आलेख लेखन भाषा-हिंदी प्रकाशित कृति- पितृत्व साझा संकलन, अर्पण साहित्यांजलि, साहित्य के चमकते सितारे साझा संकलन, रविना प्रकाशन द्वारा माँ विशेषांक में कृति रचना प्रकाशन- देवभूमि समाचार, दि ग्राम टुडे समाचारपत्र, दैनिक विजय दर्पण टाइम्स, लोकतंत्र की बुनियाद मासिक पत्रिका, सुदर्शन मासिक पत्रिका, हरियाणा प्रदीप समाचारपत्र, ट्रु टाइम्स समाचारपत्र, आलोकपर्व मासिक पत्रिका। रुचि- लेखन, पुस्तक अध्ययन वृत्ति- वर्तमान में ग्रामीण परिवेश में बच्चों के बीच अध्यापन कार्य, पेपरविफ्फ Influencer, Literature Hindi Captain, दि ग्राम टुडे समाचारपत्र में पोर्टल पर रचनाएं अपलोड करने का कार्य

Kumar Sandeep
Kumar Sandeep 01 Feb, 2021 | 1 min read

प्रेम महज ढ़ाई अक्षर का शब्द नहीं

प्रेम महज एक शब्द नहीं है

#Hindi poem #1000poems

Reactions 2
Comments 0
425
Kumar Sandeep
Kumar Sandeep 01 Feb, 2021 | 1 min read

प्रेम का मतलब

◆प्रेम का वास्तविक अर्थ◆

#Hindi poetry #1000poems

Reactions 1
Comments 2
410
Kumar Sandeep
Kumar Sandeep 29 Jan, 2021 | 1 min read

अपने पापा के नाम एक ख़त

पिता के नाम एक ख़त।

#A letter in the name of my father

Reactions 1
Comments 4
474
Kumar Sandeep
Kumar Sandeep 29 Jan, 2021 | 1 min read

सपने में पापा आए

पिता संग पुत्र- संवाद सपने में

#Dream #1000poems

Reactions 1
Comments 2
413
Kumar Sandeep
Kumar Sandeep 26 Jan, 2021 | 1 min read

शहीद सैनिक का शव

शहीद सैनिक का शव गाँव में सैनिक के घर तक पहुंचने के बाद जो स्थितियां उत्पन्न होती हैं। उसे शब्दों के माध्यम से व्यक्त करने की तुच्छ कोशिश।

#Martyr soldier #1000poems

Reactions 3
Comments 3
403
Kumar Sandeep
Kumar Sandeep 26 Jan, 2021 | 1 min read

सैनिक संभालते हैं ख़ुद को

सैनिकों को समर्पित सृजन।

#1000poems #Indian soldiers

Reactions 2
Comments 2
422
Kumar Sandeep
Kumar Sandeep 24 Jan, 2021 | 1 min read

बेटी हूँ मैं भी..

नारी शक्ति को समर्पित एक कृति

#National Girl Child day2021 #1000poems

Reactions 3
Comments 4
548
Kumar Sandeep
Kumar Sandeep 24 Jan, 2021 | 0 mins read

उठो बेटियों, शस्त्र उठाओ

बेटियों के नाम चंद शब्द।

#National Girl Child day2021 #1000poems

Reactions 1
Comments 1
458
Kumar Sandeep
Kumar Sandeep 23 Jan, 2021 | 1 min read

युवा! तू बढ़ा कदम

युवाओं को समर्पित एक रचना

#1000poems

Reactions 1
Comments 2
508
Kumar Sandeep
Kumar Sandeep 22 Jan, 2021 | 0 mins read

मेरे बेटे

एक पिता अपने पुत्र से क्या अपेक्षाएं रखता है? ईश्वर से बेटे की सलामती की दुआ किस तरह ईश्वर से करता है। यह बताने की एक कोशिश की है मेरी इस रचना ने। उम्मीद है आपको यह रचना पसंद आएगी।

#Hindi poetry

Reactions 2
Comments 3
425