Amarjeet kumar
Amarjeet kumar 31 Jan, 2023 | 0 mins read
टेस्ट परिणाम
AM
AM 23 Jun, 2022 | 1 min read

जागरण भाग-1

ये धरती, ये प्रकृति..... ना जाने कितने राज़ छुपे हैं समय के गर्भ में..... कितनी ही घटनायें घटती हैं और जैसे समुद्र की अथाह जल राशि में उठती-गिरती लहरों का लोप हो जाता है वैसे ही ये घटनायें भी भूत काल के या इतिहास के पन्नों में हमेशा के लिए लोप जाती हैं..... पर क्या हो जब ऐसी ही किसी ऐतिहासिक घटना के कारक..... दो व्यक्ति एक नए रूप, नए अवतार में फिर से वर्तमान में एक-दूसरे के आमने-सामने आते हैं..... ये है ऐसी ही एक कहानी .....कार्तिका और विराट की।

Reactions 2
Comments 3
597
prem bajaj
prem bajaj 16 Apr, 2022 | 1 min read

हनुमान जयंती

महावीर जयंती

Reactions 0
Comments 0
431
Mohit Singh
Mohit Singh 22 Mar, 2022 | 20 mins read

Heaven's Memento

A story line based historical novel

Reactions 0
Comments 0
363
prem bajaj
prem bajaj 17 Jan, 2022 | 1 min read

देश को एक और झटका

महान गीतकार का निधन

Reactions 0
Comments 0
470
Hem Lata Srivastava
Hem Lata Srivastava 22 Jun, 2021 | 1 min read

#Scribble दर्द द्रौपदी का

महाभारत का कलंक उस द्रोपदी के सर सबने मढ़ा था। उस अग्नि पुत्री द्रोपदी को बांटा गया पांच पांडवों में था, उस पल द्रोपदी के मन का दर्द जाना किसी ने भी न था , जंगलों में भटकती पांडवों संग द्रोपदी के दर्द का जाना किसी ने न था मामा शकुनि की कुटिल चालों का कुछ गुमान धर्मराज को न था क्या कुसूर था उस द्रोपदी का था जो हारा उसे जुएं में गया था केशों से घसीटी गयी निर्वस्त्र करने को बेताब दुशाशन बड़ा था क्या कसूर द्रोपदी का था ,भरी सभा में वेश्या उसे पुकारा गया था

Reactions 2
Comments 0
521