नन्हीं सी बूंद

नन्हीं सी बूंद

Originally published in hi
Reactions 5
336
Kanak Harlalka
Kanak Harlalka 27 Jun, 2021 | 0 mins read
Scribble

धीरे से गिरी एक नन्ही सी बूंद

छू गई गुलाब को , गुलाब खिल गया...


धीरे से गिरी एक नन्हीं सी बूंद झरने में

झरना सागर बन गया...


धीरे से गिरी एक नन्हीं सी बूंद मेरी आंखों से

मुझे जीवन मिल गया...


धीरे से गिरी एक नन्हीं सी बूंद रंगों में

और चित्र सज गया...


धीरे से गिरी एक नन्हीं सी बूंद मेरे होठों पर

मुस्कुराहट बन गई...


धीरे से गिरी एक नन्हीं सी बूंद धीरे धीरे खो कर

सृजन कर गई...।।।



5 likes

Published By

Kanak Harlalka

kanakharlalka

Comments

Appreciate the author by telling what you feel about the post 💓

  • Charu Chauhan · 2 years ago last edited 2 years ago

    beautiful

  • Deepali sanotia · 2 years ago last edited 2 years ago

    Beautiful words

  • anil makariya · 2 years ago last edited 2 years ago

    उम्दा कविता।

  • Sushma Tiwari · 2 years ago last edited 2 years ago

    अहा! खूबसूरत कविता

  • Nidhi Gharti Bhandari · 2 years ago last edited 2 years ago

    प्यारी कविता

Please Login or Create a free account to comment.