सुबह जल्दी कैसे उठें

।।सुबह जल्दी उठने के टिप्स।।

Originally published in hi
Reactions 3
428
Kumar Sandeep
Kumar Sandeep 21 Aug, 2022 | 1 min read
how to wake up early in the morning Subah jaldi kaise uthe

               सुबह जल्दी कैसे उठें? इस सवाल का जवाब जब आप अपने मन से ख़ुद ही पूछेंगे तो जवाब मिल जाएगा। सोने से कुछ सेकंड पहले आपको अपने मन से यह कहकर सोना होगा कि देख भाई मन सुबह में नींद तुम्हें तुम्हारे मार्ग से भटकाना चाहेगी नींद कहेगी कुछ देर और सो जा कुछ देर बाद उठना। पर तुम्हें देना है जवाब नींद को मेरे दोस्त को कुछ अच्छा करना है जिंदगी में इसलिए वो तेरी बात के झाँसे में न आएगा। यकीन से कहता हूँ बस इतनी सी बात आपको सुबह में जल्दी उठा देगी, और अपने कार्य में लगने के लिए प्रेरित कर देगी।


              अगर आप विद्यार्थी हैं तो आपके लिए तो जल्दी उठना बेहद ही ज़रूरी है, क्योंकि सुबह का पढ़ा हुआ नोट्स बहुत ही लंबे समय तक याद रहता है। ब्रह्मुहुर्त में पढ़ाई करने से हम याद किया हुआ नोट्स जल्दी नहीं भूलते हैं इसलिए नींद चाहे लाख भ्रमित करना चाहे सुबह में कि कुछ देर और सो जा पर हमें भ्रमित नहीं होना है और सुबह उठना ही है पढ़ने के लिए।



             सुबह उठने के फायदे अनेक है, यह आपको तब पता चलेगा जिस दिन से आप सुबह जल्दी उठने लगेंगे। 


१)सुबह जल्दी उठने से दिन भर काम करने के पर्याप्त समय मिलता है।

२)सुबह की ठंडी हवा जब हमारे मन को तन को छूती है तो हमारे अंदर अद्भुत सुकून का अनुभव होता है।

३)विद्यार्थियों के लिए तो सुबह का समय गोल्डेन ऑवर है। इस वक्त पढ़ाई करने वाले बच्चे अपने लक्ष्य को अवश्य ही हासिल करते हैं।

४)नये और कुछ सकारात्मक विचारों में भी वृद्धि होगी आपकी जब जब आप सुबह जल्दी उठेंगे।


            देखिए सुबह जल्दी नींद खुल जाए इसके लिए आपको फोन में नहीं बल्कि अपने मन में यह अलार्म लगाना होगा कि मुझे कुछ अच्छा करना है अपनी ज़िंदगी में इसलिए मैं सोता ही नहीं रहूंगा। और एक बात और सुबह जल्दी उठने के लिए आपको रात्रि में सोने का टाइमिंग भी फिक्स्ड करना होगा। देर रात तक दोस्तों से चैटिंग, देर रात तक शॉर्ट विडियों व फिल्म देखने की लत जितनी जल्द हो सके छोड़ देना चाहिए। जब तक सोने का टाइमिंग फिक्स्ड नहीं होगा तब तक उठने का टाइमिंग फिक्स नहीं हो सकता है। अगर आप स्टूडेंट हैं तो प्रयास करें कि नौ से साढ़े नौ बजे तक तो सो जाए और सुबह साढ़े तीन से चार बजे तक अवश्य उठ जाएं। 


           देखिए हम पढ़ाई केवल ख़ुद के बेहतर भविष्य के लिए नहीं करते हैं। हम पढ़ाई इसलिए भी करते हैं ताकि पढ़लिखकर हम एक दिन नेक इंसान बनें और अपने माता-पिता की तकलीफों को दूर कर उनके हिस्से में ख़ुशियों का संचार करें। हमारे माता-पिता अपनी आँखों में अनगिनत सपने संजोकर रखते हैं हमारे लिए तो हमारा भी यह कर्तव्य है कि हम उनके सपनों के लिए ही सही हर दिन कुछ बेहतर करें ताकि एक दिन हमारे माता-पिता को हम पर गर्व हो और हमें ख़ुद पर बेहद गर्व हो कि हमने माता-पिता के सपने को पूरा किया।


धन्यवाद!



©कुमार संदीप

मौलिक, स्वरचित, अप्रकाशित



3 likes

Published By

Kumar Sandeep

Kumar_Sandeep

Comments

Appreciate the author by telling what you feel about the post 💓

  • Subhash Sagar · 1 year ago last edited 1 year ago

    बहुत सुंदर रचना 🥰🤗

  • Kumar Sandeep · 1 year ago last edited 1 year ago

    धन्यवाद सर

  • Jyoti Mishra · 1 year ago last edited 1 year ago

    अति सुन्दर👌👌

  • Kumar Sandeep · 1 year ago last edited 1 year ago

    धन्यवाद दी

  • Kumar Sandeep · 1 year ago last edited 1 year ago

    धन्यवाद दी

Please Login or Create a free account to comment.